उद्धव ठाकरे का मोदी सरकार पर हमला-नौकरियां जा रही हैं, कारोबार ठप्प

मुंबईः महाराष्ट्र में विधानसभा के चुनाव मिलकर लड़ने वाली शिवसेना ने अपनी सहयोगी पार्टी भाजपा पर बड़ा हमला बोला। केंद्र में भाजपा नीत सरकार पर प्रहार करते हुए शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा कि मौजूदा आर्थिक मंदी को स्वीकार कर लेना चाहिए। नौकरियां जा रही हैं और व्यापार ठप्प हो रहा है। उन्होंने कहा कि बदले की राजनीति नहीं करनी चहिए। इस संबंध में उन्होंने राजनीतिक विरोधियों के खिलाफ ईडी और सीबीआई जैसी एजेंसियों का जांच में इस्तेमाल करने का संकेत दिया। उद्धव ने मंगलवार को कहा कि उनकी पार्टी पिछले पांच साल से महाराष्ट्र में सरकार का हिस्सा है। उसके पास कोई खास शक्तियां नहीं हैं लेकिन इसके बावजूद उसने कभी धोखा नहीं दिया और न ही सरकार गिराने के लिए कोई षडयंत्र रचा।

पार्टी प्रमुख ने कहा कि किसी गठबंधन में दोनों पार्टियों को सावधानी बरतने की जरूरत होती है अगर अकारण गति बढ़ाई जाती है तो इससे दुर्घटना हो सकती है। उद्धव ने पार्टी के मुखपत्र सामना में अपने साक्षात्कार के दूसरे भाग में आरे कॉलोनी में पेड़ों को काटे जाने के संबंध में अपनी पार्टी के विरोध पर भी चर्चा की। उद्धव ने कहा कि वे मेट्रो कार शेड के खिलाफ नहीं हैं बल्कि उस स्थान के खिलाफ हैं जहां इसकी इजाजत दी गई। उन्होंने कहा कि लोगों की परेशानियों की कीमत पर विकास नहीं होना चाहिए। उन्होंने कहा कि शिवसेना जनता से जुड़े मुद्दे उठाना जारी रखेगी। शिवसेना प्रमुख ने कहा कि अगर आने वाले चुनाव में भाजपा-शिवसेना गठबंधन जीत जाता है तो दोनों मिल कर बेहतर प्रशासन और सुशासन देंगे।

उद्धव ने कहा कि शिवसेना ने कई बार विपक्ष की भूमिका निभाई है लेकिन,‘‘वह सत्ता के दुरुपयोग और बदले की राजनीति के खिलाफ हैं। ईडी के दुरुपयोग के बारे में नहीं जानता लेकिन सीबीआई का दुरुपयोग कोई नई बात नहीं है। आप जो बोएंगे वहीं आप काटेंगे। राजनीतिक विरोधियों को निशाना बनाने के लिए प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) का इस्तेमाल किए जाने के आरोपों पर ठाकरे ने कहा कि ये राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी हैं कौन? क्या ये पाक-साफ हैं?” उन्होंने कहा कि पाक-साफ नेताओं को कोई निशाना नहीं बना रहा। क्या आप इस बात से सहमत हैं कि ईडी के राडार पर जितने भी हैं वे दागी नहीं है?” आने वाले विधानसभा चुनाव पर उन्होंने कहा कि शिवसेना को महाराष्ट्र की सभी 288 सीटों के लिए तैयार रहना होगा। उन्होंने कहा,‘‘तैयार रहने का मतलब चुनाव लड़ना, या जीतना अथवा हारना नहीं है। मैं चाहता हूं कि शिवसेना की विचारधारा प्रत्येक वार्ड में पहुंचे।