भूपेश बघेल के ‘सावरकर’ पर दिए विवादित बयान से मचा बवाल, BJP हुई हमलावर

भोपाल: छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के सावरकर पर दिए गए बयान से सियासी बवाल खड़ा हो गया और भाजपा ने बघेल को इतिहास पढ़ने की सलाह दे डाली। सीएम बघेल के विवादित बयान के बाद बीजेपी की ओर से पूर्व सीएम डॉ. रमन सिंह ने पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि, बघेल को एक बार फिर से इतिहास पढ़ने की जरूरत है। कहा कि, बड़ी हार के बाद आदमी सदमे में रहता है और कुछ भी बोलता है, लेकिन सावरकर के बारे में कम ज्ञान में ज्यादा बोलना ठीक नहीं है।

सीएम बघेल ने दिया ये विवादित बयान
प्रदेश की राजधानी रायपुर में जवाहरलाल नेहरु की पुण्यतिथि पर आयोजित व्याख्यानमाला में सीएम बघेल ने कहा कि, दो राष्ट्र का सिद्धांत पंडित नेहरु या मोहम्मद जिन्ना का नहीं बल्कि सावरकर का था। हिंदू महासभा में सावरकर ने ही प्रस्ताव रखा था कि देश दो राष्ट्र के रूप में आजाद हो। धार्मिक आधार पर उन्होंने दो राष्ट्र की मांग रखी थी और जिन्ना ने इसे लागू किया। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि यह ऐतिहासिक तथ्य है और इसे कोई झुठला नहीं सकता

सावरकर को देश के बंटवारे का सूत्रधार बनाने तक ही बघेल नहीं रुके। उन्होंने कहा कि, आजादी की लड़ाई सावरकर लड़े ही नहीं और जब उन्हें अंडमान के जेल में रखा गया था तब उन्होंने अंग्रेजों से 10 बार माफी मांगी। जेल से छूटने के बाद भी उन्होंने कभी आजादी के आंदोलन में भाग नहीं लिया। बघेल ने अपने वक्तव्य में जोड़ा कि पंडित नेहरू की सोच, दूरदर्शिता, दर्शन काफी ज्यादा प्रभावशाली है, जोकि उनकी किताब भारत एक खोज में पढ़ी जा सकती है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.