24 साल बाद घर लौटे, अग्नपथ योजना को युवाओं के लिए बेहतर बताया

खरगोन: खरगोन शहर के जानकी नगर निवासी सैनिक पदमसिंह सिसोदिया के 24 साल बाद खरगोन लौटने पर जानकी नगर के रहवासियों ने उनका भव्य स्वागत किया। सैनिक पदमसिंह की अगुवाई पर शनिवार रात में ही रहवासियों ने ढोल ताशे बजाकर जुलूस निकाला। जगह-जगह पुष्प वर्षा कर, रैली निकालकर किया सम्मान और पुष्पहार पहनकार सैनिक का स्वागत किया गया। सैनिक के सम्मान में महिला पुरुष बच्चे सभी हुए शामिल। मंदिर प्रांगण में सेना कैंप का केक सजाकर सैनिक पदमसिंह ने काटा और 24 साल देश के विभिन्न राज्यों में सेवा देकर लौटने वाले सैनिक की उत्सव के साथ अगुवाई की गई। सैनिक पदमसिंह कश्मीर सहित देश के विभिन्न राज्यों में दे चुके है सेवा।अग्निपथ योजना को युवाओं के लिए बेहतर विकल्प बतायासेवानिवृत्त हुए सैनिक पदम सिंह सिसोदिया ने बताया कि 24 वर्ष सेना में देश सेवा कर वापस लौटने पर खुशी के साथ ही गौरव महसूस हो रहा है। उन्होंने बताया कि वे ग्राम छोटी ऊन के रहने वाले है। वहां से आर्मी में गए थे। इसके बाद बरेली, मेरठ, वेस्ट बंगाल, हरियाणा, जम्मू कश्मीर सहित साउथ के राज्यों में सेवाएं दी। 24 साल हो गए सेना में सेवाएं देते हुए। सैनिक सिसोदिया ने युवाओं के लिए अग्निपथ योजना का बेहतर विकल्प बताया है। बेरोजगारी हटाने के साथ ही युवाओं को नया जोश प्रदान करने वाली योजना है। उन्होंने बताया कि 24 साल सेवाएं देने के बाद हमें ग्रेजुएटी के रुप में 10 लाख 40 हजार रुपये मिलेंगे। वहीं अग्निपथ योजना में 4 साल में 12 लाख मिल रहे हैं, ये अच्छी बात है। युवा बेरोजगार नहीं रहेंगे, सेना में जाने का अवसर मिलेगा। उन्हें डिसिप्लिन और देश के प्रति जागरूकता की भावना जागेगी। सैनिक ने कहा बेरोजगार युवाओं को सेना में जाने का एक सुनहरा अवसर है। इसके माध्यम से युवा देश की सेवा कर सकते है।