एक स्टूडेंट ने खत लिखकर की खास मांग, PM मोदी बोले- अब तो मानना पड़ेगा आदेश

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ऐसे ही लोगों के बीच लोकप्रिय नहीं हैं, खास कर बच्चों में। जहां पीएम मोदी बच्चों के साथ मस्ती के पल बिताने का मौका नहीं छोड़ते वहीं अगर कोई उनको खत लिखे तो वे जवाब देने में भी देर नहीं लगाते हैं। एक ऐसे ही नन्हे फैन ने पीएम मोदी को खत लिखकर एक खास मांग की जिसको उन्होंने मान भी लिया। दरअसल पीएम मोदी ने अपनी चर्चित पुस्तक ‘एग्जाम वारियर्स’ के नए संस्करण के लिए अध्यापकों और अभिभावकों से सुझाव देने का अनुरोध करते हुए कहा कि देश के युवा साथियों को अपने ‘प्रधान सेवक’ पर बहुत भरोसा है। पीएम मोदी ने मोदी ने आकाशवाणी पर अपने रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ में अरुणाचल प्रदेश में रोइंग के एक विद्यार्थी अलीना तायंग के पत्र का उल्लेख करते हुए कहा कि मेरे युवा साथियों को भी भरोसा है कि देश के प्रधान सेवक को काम बताएंगे, तो, हो ही जाएगा।

उन्होंने कहा और पढ़ते समय, उसमें से क्या कमी है ये भी मुझे बताने के लिए, बहुत-बहुत धन्यवाद और साथ-साथ मेरे इस नन्हे से मित्र ने मुझे काम भी सौंप दिया है। कुछ करने का आदेश दिया है। मैं जरुर आपके आदेश का पालन करूंगा।प्रधानमंत्री ने कहा कि मन की बात के जरिए कई जाने-अनजाने लोगों से प्रत्यक्ष-परोक्ष संवाद करके का सौभाग्य मिल जाता है। उन्होेंने अलीना तायंग के पत्र का उल्लेख करते हुए कहा कि एग्जाम वारियर्स के नए संस्करण में अध्यापकों और अभिभावकों के बारे में भी कुछ लिखने के लिए कहा गया है। उन्होंने कहा कि नए संस्करण में अभिभावकों और अध्यापकों के लिए कुछ बातें लिखने का प्रयास किया जाएगा।

लोगों से सुझाव मांगते हुए मोदी ने कहा कि मैं आप सबसे आग्रह करूंगा कि क्या मुझे आप लोग मदद कर सकते है ? रोजमरर की जि़दंगी में आप क्या अनुभव करते हैं। देश के सारे विद्यार्थीयों से, अध्यापकों और अभिभावकों से मेरा आग्रह है, कि, आप, तनाव रहित परीक्षा से जुड़े पहलुओं को लेकर के, अपने अनुभव मुझे बताइए, अपने सुझाव बताइए। मैं जरुर उसका अध्ययन करूंगा। उस पर मैं सोचूंगा और उसमें से जो मुझे ठीक लगेगा उसको मैं मेरे अपने शब्दों में, अपने तरीके से जरुर लिखने का प्रयास करूंगा।