लोकसभा चुनाव परिणाम के बाद हिंसा से उबल रहा बंगाल

कोलकाताः लोकसभा चुनाव परिणाम घोषित होने के बाद से ही पश्चिम बंगाल में राजनीतिक हिंसा जारी है। राज्य में सत्तारुढ़ तृणमूल कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के कार्यकर्ताओं के बीच हो रही हिंसक झड़पों के कारण इस समय माहौल काफी तनावपूर्ण है।  तेईस मई को लोकसभा चुनाव परिणाम घोषित किये जाने के बाद से एक भाजपा कार्यकर्ता की गोली मारकर हत्या की जा चुकी है, इसके अलावा एक बम धमाके में एक किशोरी की मौत हो गयी है जबकि राज्य के विभिन्न क्षेत्रों में हुई हिंसा में कई लोग घायल हुए हैं।

राज्य में हिंसा की ताजा घटना में काकिनाडा में भाजपा कार्यकर्ता चंदन शॉ की गोली मारकर हत्या कर दी गयी। इसके अलावा अलग-अलग जिलों में सत्तारुढ़ तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं और भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच हो रही हिंसा में एक किशोरी की मौत हो गयी और दर्जनों लोग घायल हो गये।

पुलिस उत्तर 24 परगना क्षेत्र के काकिनाड़ा में भाजपा कार्यकर्ता चंदन शॉ की निर्मम हत्या की जांच कर रही है। रविवार देर रात चंदन को पहले गोली मारी गयी उसके बाद उस पर देशी बम फेंके गये। बैरकपुर से भाजपा के नवनिर्वाचित सांसद अर्जुन सिंह ने इस हत्या के लिए तृणमूल कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया है। भाजपा सांसद के मुताबिक चंदन शॉ पर पहले देशी बमों से हमला किया गया, उसके बाद उनको नजदीक से गोली मारी गयी।

पुलिस ने आज सुबह इस मामले में दो संदिग्ध लोगों को हिरासत में लिया है। तृणमूल कांग्रेस ने इन आरोपों से इनकार करते हुए इस हिंसा के लिए भाजपा के अंदरुनी कलह को जिम्मेदार ठहराया है। दक्षिण 24 परगना जिले के हरोआ क्षेत्र में एक किशोर लड़की की बम फेंककर हत्या कर दी गयी।

हिंसा की एक और घटना में नादिया जिले में 22 वर्षीय सांतू घोष को नजदीक से गोली मारी गयी। श्री घोष अपने घर के बाहर दोस्तों से बात कर रहे थे। पुलिस ने एक संदिग्ध को हिरासत में लिया है। राज्यपाल केसरी नाथ त्रिपाठी ने लोगों से शांति एवं सौहार्द बनाए रखने की अपील की है। मालदा से प्राप्त एक रिपोर्ट के मुताबिक कल देर रात कुछ बदमाशों ने दो लीची व्यापारियों पर बम से हमला कर दिया जिसमें दोनों गंभीर रुप से घायल हो गये।