मॉब लिंचिंग पर हर्ष मंदर ने अल्पसंख्यकों और दलितों पर दिया बयान, उठे विरोध के स्वर

इंदौर:अभ्‍यास मंडल की व्याख्यानमाला में पूर्व आईएएस हर्ष मंदर के बयान पर खासा हंगामा हो गया। दरअसल अपने संबोधन के दौरान हर्ष मंदर ने कहा था कि चुनाव के बाद अल्पसंख्यक और दलितों का बराबरी का हक खतरे में है।अब भारत देश को हिंदू राष्ट्र के रूप में तैयार करने की कोशिश की जाएगी। इसके साथ ही जनता के दिल और दिमाग में बंटवारा करने की कोशिश शुरू होगी।

अभ्‍यास मंडल की ओर से आयोजित व्याख्यानमाला में पूर्व आईएएस हर्ष मंदर के बयान पर अचानक हंगामा हो गया। जिसके कारण कार्यक्रम को थोड़ी देर के लिए रोकना पड़ा।दरअसल अपने संबोधन के दौरान हर्ष मंदर ने कहा था कि चुनाव के बाद अल्पसंख्यक और दलितों का बराबरी का हक खतरे में है।अब भारत देश को हिंदू राष्ट्र के रूप में तैयार करने की कोशिश की जाएगी। इसके साथ ही जनता के दिल और दिमाग में बंटवारा करने की कोशिश शुरू होगी।

जानकारी के अनुसार, जिसमें हर्ष मंदर को इसके ऊपर बोलना था। उन्होंने जैसे ही कहा कि चुनाव के बाद से अल्पसंख्यक और दलितों का बराबरी का हक खतरे में आ गया है। अब भारत देश को हिंदू राष्ट्र के रूप में तैयार करने की कोशिश की जाएगी। इसके साथ ही जनता के दिल और दिमाग में बंटवारा करने की कोशिश शुरू होगी।

इतना सुनते ही दर्शक हर्ष मंदर पर भड़क गए और हंगामा करने लगे। नाराज श्रोताओं ने मंदर से कहा कि आप कश्मीरी पंडितों के मुद्दे पर क्यों मौन हैं। पूरे कश्मीरी पंडितों को उनके घर से निकाल दिया गया। क्या यह किसी लिंचिंग से कम था। आयोजकों ने जैसे-तैसे मामला शांत किया। हालांकि हर्ष मंदर का कहना था कि भाषण में उन्होंने अपने निजी विचार व्यक्त किए हैं, उस पर लोग सहमत या असहमत हो सकते हैं।