नरेंद्र मोदी दोबारा चुने गए संसदीय दल के नेता, आडवाणी-जोशी का पैर छूकर लिया आशीर्वाद

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के नवनिर्वाचित सांसदों की पहली बैठक संसद से सेंट्रल हॉल में चल रही है। इस बैठक में एनडीए के घटक दल के सभी नेता मौजूद हैं, साथ ही भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी भी मौजूद हैं। इस बैठक में नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री पद के लिए औपचारिक रूप से ऐलान होगा। इस दौरान भाजपा अध्यक्ष अमित शाह नरेंद्र मोदी के नाम का प्रस्ताव रखा है।

सूत्रों के अनुसार मोदी के अगले सप्ताह नये मंत्रिमंडल के साथ शपथग्रहण करने की संभावना है। चुनाव परिणाम आने के बाद शुक्रवार शाम को प्रधानमंत्री मोदी की अध्यक्षता में हुई केन्द्रीय मंत्रिपरिषद की आखिरी बैठक में 16वीं लोकसभा भंग करने की राष्ट्रपति से सिफारिश करने का प्रस्ताव पारित किया गया।

बैठक के बाद प्रधानमंत्री ने राष्ट्रपति को अपना त्यागपत्र सौंपा जिसे कोविंद ने स्वीकार कर लिया। सत्रहवीं लोकसभा के गठन की प्रक्रिया तीनों चुनाव आयुक्तों के राष्ट्रपति को नवनिर्वाचित सांसदों की सूची सौंपे जाने के साथ शुरू होगी।  राष्ट्रपति ने निवर्तमान मंत्रिपरिषद के सदस्यों के सम्मान में आज रात्रिभोज का आयोजन किया है।

भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि पश्चिम बंगाल, ओडिशा और तेलंगाना से चुने गए नए चेहरों को भी मंत्रिमंडल में शामिल किया जा सकता है। जिन राज्यों में भाजपा को बढ़त मिली है, वहां से चुन कर आए लोगों को इनाम मिल सकता है। कई युवा चेहरों को मंत्रिपरिषद में शामिल किए जाने की संभावना है, क्योंकि भाजपा नेतृत्व सेंकेंड लाइन लीडरशिप की तैयारी कर रहा है।