सेना ने निकाला तो नकली कर्नल बन ठग रहा था बेरोजगारों को, क्राइम ब्रांच ने दबोचा

जम्मू : क्राइम ब्रांच ने एक नकली कर्नल का भंडाफोड कर उसे गिरफ्तार किया है। यह नकली कर्नल सेना से निकाला गया सिपाही है और अधिकारी बनकर बेरोजगार युवाओं से लाखों की ठगी करने में लगा हुआ था। युवाओं को सेना में नौकरी दिलवाने के बहाने से उनसे पैसे ठगता और बदले में उन्हें फर्जी भर्ती पत्र भी देता था। क्राइम ब्रांच ने इसे गिरफ्तार करके आगे की जांच शुरू कर दी है।

सेना के इस नकली कर्नल की पहचान कुलविन्द्र सिंह निवासी देयारन मिश्रीवाला के तौर पर हुई है। क्राइम ब्रांच ने उसके सौतेले भाई रिकी चिब और दो साथियों को भी पकड़ा है। पुलिस के अनुसार आरोपी सेना में सिपाही था। उसे वर्ष 2017 में सेना से निकाल दिया गया था और उसके बाद उसने कमाई का नया जिरया तलाश करते हुये खुद को कर्नल बताकर युवाओं को ठगना शुरू कर दिया।  पुलिस के अनुसार उसने जानीपुर और मुट्ठी में आफिस तक खोल रखा था।

पुलिस के अनुसार उसने मेहिन्द्र कुमार  नामक युवक को पांच महीने तक अपने घर में बावर्ची बना रखा था। उसने उसे न तो पैसे दिये और न ही उससे ठगे पैसे लौटाये। उसके खिलाफ युवाओं ने क्राइम ब्रांच से मद्द मांगी थी।